पारंपरिक फ़ॉरेक्स की डिजिटल संपत्तियों के साथ तुलना

Comparing Traditional Forex with Digital Assets

Forex क्या हैं?

चलिए हम पारंपरिक फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग की डिजिटल संपत्ति ट्रेडिंग के साथ तुलना करने से पहले फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग की परिभाषा जानते हैं। फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग विदेशी मुद्राओं की ट्रेडिंग है। मुद्राएं जोड़ियों में ट्रेड की जाती हैं। अर्थात, ट्रेडर्स वास्तव में जोड़ी की एक मुद्रा की दूसरी मुद्रा में लेन-देन करते हैं। जोड़ी में एक बेस मुद्रा और एक कोट मुद्रा होती है।

बेस मुद्रा आमतौर पर पहले दर्ज की जाती है। विनिमय दर एक मुद्रा के मूल्य से दूसरी मुद्रा के मूल्य का अनुपात होता है। आमतौर पर, यह दिखाता है कि बेस मुद्रा ख़रीदने के लिए आपको कितनी कोट मुद्रा खर्च करने की आवश्यकता है। ट्रेडर्स विनिमय दर के उतार-चढ़ाव से कमाई करते हैं। ट्रेडर का लक्ष्य सबसे कम कीमत पर मुद्रा खरीदकर उसे सबसे अधिक मूल्य पर बेचना होता है। और खरीद और बिक्री की कीमतों के बीच के अंतर को ट्रेडर का मुनाफ़ा माना जाता है।

Forex मार्केट किससे प्रभावित होता हैं?

विनिमय दरों में उतार-चढ़ाव अलग अलग कारकों के संयोजन से प्रभावित होते हैं, जिन्हें निम्नलिखित श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है:

  • ब्याज दर। ब्याज दर राष्ट्रीय मुद्रा के विनिमय दर को सीधे प्रभावित करता है। ब्याज दर केंद्रीय बैंक द्वारा निर्धारित किया जाता है। उसे बढ़ाकर, बैंक विदेशी निवेशों के लिए देश को अधिक आकर्षक बनाता है क्योंकि यह पूंजी पर अधिक मुनाफ़ा देता है। यह राष्ट्रीय मुद्रा को मजबूत करता है और उसे अन्य के मुकाबले अधिक मूल्यवान बनाता है।
  • संसाधन मार्केट में कीमतें और स्थिति। कई देशों की अर्थव्यवस्थाएं एक या दूसरे स्तर पर संसाधनों के निर्यात पर निर्भर होती हैं। उदाहरण के लिए, केनेडा बड़े स्केल पर लोहे और कच्ची धातु का निर्यात करता है। इसलिए, अगर इन संसाधनों का कोई नया स्रोत दुनिया में कहीं पाया जाता है, तो इसका सप्लाई (आपूर्ति) बढ़ जाएगा, जिससे इन संसाधनों की कीमत प्रभावित होकर कम होगी। इसका मतलब है कि इन संसाधनों का निर्यात करने वाले देश उनकी बिक्री से कम मुनाफ़ा प्राप्त करेंगे और इसलिए बजट में आय कम होगी। अतः, ऐसे संसाधनों की कीमतों में गिरावट से मुद्रा कमजोर हो जाएगी।
  • निर्यात की मात्रा। निर्यात की मात्र जितनी अधिक होगी, उतनी ही अधिक देश द्वारा उत्पादित उत्पादों की मांग होगी और इससे देश में विदेशी मुद्रा का प्रवाह बढ़ेगा। यदि निर्यात की मात्रा आयात से अधिक होती है, तो इसका मतलब है कि उत्पादों की मांग अधिक है, और यह मुद्रा को मजबूत बनाता है।
  • राजनीतिक स्थिति। विनिमय दरें देशों की आंतरिक और बाहरी दोनों नीतियों से प्रभावित होते हैं। आक्रामक विदेशी नीति का संचालन करते समय, देश सहयोग के लिए कई अवसर खो देता है और मुद्रा कमजोर हो जाती है I इसी तरह, जब देश में सरकार बदलती है, तो यह आर्थिक क्षेत्र पर बहुत अधिक प्रभाव डाल सकती है क्योंकि राज्य के निजी क्षेत्र पर नियंत्रण और प्रभाव का स्तर बदल सकता है, और कर व्यवस्था बदल सकती है। यह सब देश की अर्थव्यवस्था को विकसित करके मुद्रा को मजबूत कर सकता है या इससे विपरीत अर्थव्यवस्था और मुद्रा को नकारात्मक रूप से प्रभावित भी कर सकता है।
  • आर्थिक स्थिति। देश की समग्र रूप से आर्थिक स्थिति मुद्रा के मूल्य का आधार है। मजबूत अर्थव्यवस्था वाले देश, जिनमे बेरोजगारी और महंगाई भी कम है उनकी मुद्राए अधिक स्थिर और मूल्यवान होती हैं।

डिजिटल संपत्ति क्या होती हैं?

डिजिटल प्रारूप में बनाई गई है हर चीज़ जिसका कोई मूल्य है या जो वीडियो, फोटो, डेटा और इसी तरह की अन्य संपत्तियों को मूल्य प्रदान करती है उसको हम डिजिटल संपत्ति कहेंगे।

डिजिटल संपत्तियों को वास्तविक और अवास्तविक दोनों तरीके के मूल्य दिए जा सकते हैं। 2009 में, जब ब्लॉकचेन पेश किया गया था, तब डिजिटल संपत्तियों की धारणा और अवधारणा बदल गई। टोकनाइजेशन जैसी एक अवधारणा आई - जिसका मतलब है किसी संपत्ति के अधिकारों को एक डिजिटल टोकन में रूपांतरित करना। कंपनी को ब्लॉकचेन से जोड़कर, आप सभी प्रक्रियाओं को स्वचालित करते हैं और गतिविधियों को निवेशकों के लिए अधिक पारदर्शी और आकर्षक बनाते हैं। निवेशक उसी के अनुसार कंपनी के टोकन खरीद पाएंगे।

BTC क्या है?

BTC दुनिया की सबसे व्यापक डिसेंट्रलाइज्ड (विकेन्द्रीकृत) डिजिटल मुद्रा है। अर्थात, इस मुद्रा को जारी करने वाली कोई केंद्रीय बैंक नहीं होती। BTC ब्लॉकचेन सिस्टम पर आधारित है।

वास्तव में, ब्लॉकचेन एक डेटाबेस होता है जिसमें व्यक्तिगत जानकारी एन्क्रिप्ट की गई होती है। यह सिस्टम कुछ इस प्रकार से डिजाइन किया गया है कि इसमें तीसरे व्यक्ति, संगठन या संस्था के बिना भुगतान कर सकते हैं।

BTC दर किससे प्रभावित होता है?

डिजिटल संपत्ति भी मार्केट के सिद्धांतो के अनुसार संचालित होती है, यानी जब डिजिटल संपत्ति की मांग गिरती है, तो इसका मूल्य बढ़ जाता है। अगर आपूर्ति बढ़ती है, तो कीमत उसी हिसाब से गिरती है। इसलिए डिजिटल संपत्तियों की मांग का ध्यान रखना जरुरी होता है, हालांकि आपूर्ति सख्त रूप से सीमित होती है, जिसकी कुल मात्रा 21,000,000 BTC है।

BTC की मांग के स्तर को प्रभावित करने वाला मुख्य कारक समाचार हैं:

  • BTC विनियमन के बारे में समाचार। किसी देश में सतोशी (बिटकॉइन) के उपयोग पर सरकार के प्रतिबंध के बारे में समाचार या फिर उसके उपयोग की अनुमति के बारे में समाचार। समाचार जिसमे BTC ट्रेड से कमाई गई आय को नियंत्रित करने या उस पर कर लगाने की बात होती है।
  • समाचार जिसमें वित्तीय और व्यावसायिक क्षेत्र के प्रसिद्ध लोग शामिल हैं और जिसमे सामान्य रूप से BTC या डिजिटल संपत्ति के बारे में उनके बयान है।

Forex और डिजिटल संपत्ति के बीच अंतर

डिजिटल संपत्ति की ट्रेडिंग काफी हद तक स्पेक्युलेटिव होती है। हालांकि, फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग और डिजिटल संपत्ति की ट्रेडिंग में बड़े अंतर हैं। वैसे ही जैसे फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग में मुद्रा की जोड़ियां होती हैं और एक मुद्रा की अन्य मुद्रा के साथ अनुपात का अनुमान लगाया जाता है, ठीक वैसे ही डिजिटल संपत्ति की ट्रेडिंग में भी होता है और इसमें डिजिटल संपत्ति और वास्तविक मुद्राओं के बीच अनुपात को ध्यान में रखा जाता है।

Forex मार्केट पर ट्रेडिंग करना सुरक्षित और कम अप्रत्याशित माना जाता है। डिजिटल संपत्ति पर ट्रेडिंग करना अक्सर अधिक अस्थिर होता है, जबकि फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग आपको अधिक लिक्विडिटी प्रदान कर सकता है।

इसके अलावा, Forex मार्केट पुराना है, और ट्रेडर्स के पास कई पूर्वानुमान उपकरण और मुद्रा दरों पर प्रभाव डालने वाले स्पष्ट कारक होते हैं।

BTC का एक और फायदा उत्सर्जन की सीमा होती है, जो देशों के सेंट्रल बैंक द्वारा किए जाते पैसों के उत्सर्जन से अलग होता है। सतोशी में ट्रेडिंग और बचत करने का फायदा यह है कि सरकारी निकाय आपके खाते और आपके पैसे तक आपकी पहुंच को रोक नहीं सकते हैं।

निष्कर्ष

निष्कर्ष में, हम यह नोट कर सकते हैं कि यदि आप जोखिम को कम करने के तरीके ढूंढ रहे हैं तो आपको डिजिटल संपत्तियों के मार्केट की बजाय फ़ॉरेक्स मार्केट में ट्रेड करना चाहिए। लेकिन इसी तरह, डिजिटल संपत्तियों की अधिक अस्थिरता ट्रेडरों को अधिक मुनाफ़ा कमाने के अवसर प्रदान कर सकती है।

पिछले लेख
सभी लेख
कॉपी ट्रेडिंग का परिचय: फॉरेक्स और अन्य बाजारों में कॉपी ट्रेडिंग कैसे काम करती हैा होना चाहिए
इस गाइड को अच्छे से पढ़े और जानें कि शुरू से अंत और उससे भी आगे के व्यापार को कैसे कॉपी करें। बुनियादी बातों से लेकर तकनीकी और युक्तियों तक, इस ट्रेडिंग रणनीति को विस्तार से समझाया गया है, ताकि आप पूरी जानकारी।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
सोशल ट्रेडिंग: यह क्या है और इसके जरिए पैसे कैसे कमाए जा सकते हैं
सोशल ट्रेडिंग- क्या यह फॉरेक्स ट्रेडिंग में एक नया ट्रेंड है या केवल एक बज़वर्ड? क्या यह मुनाफे वाला है? सोशल ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा प्लेटफार्म कौन सा है?
ज़्यादा जानकारी पढ़ें
सोशल ट्रेडिंग vs. कॉपी ट्रेडिंग
सोशल ट्रेडिंग और कॉपी ट्रेडिंग: दोनों में क्या फर्क है? एक आर्टिकल के ज़रिए समझने में सरल और आसान, फायदे और नुकसान और सबसे बेहतरीन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म।
ज़्यादा जानकारी पढ़ें